BREAKING NEWS : डोकलाम विवाद के बीच मोदी का चीनी मोबाइल कंपनियों को बड़ा झटका,चीन में हाहाकार !

भारत चीन विवाद के बीच चीन के लिए हर तरफ से एक के बाद एक दुःख भरी खबरें आ रही हैं.चीन पहले ही मान चूका है की भारत की मोदी सरकार चीन पर हर तरफ से भारी पड़ रही है और ये बात US एक्सपर्ट भी खुलकर चीन को बता चुके हैं.मोदी के दिमाग जहाँ सोचना शुरू करता है वहां चीन सोचना बंद करता है.डोकलाम विवाद को कम से कम दो महीने होने वाले हैं चीन भारत को तबसे युद्ध की धमकियां से रहा है लेकिन मोदी सरकार ने चीन की धमकियों की परवाह नहीं की और चीन को उसी की भाषा में जवाब दिया.आज एक बार फिर मोदी ने ऐसा फैसला लिया है जो चीन की नींद हराम करेगा !

डेटा सुरक्षा और लीक को लेकर मोदी सरकार ने चीन से इलेक्ट्रोनिक्स और आईटी प्रॉड्क्टस के बड़े पैमाने पर होने वाले इंपोर्ट की समीक्षा शुरू कर दी है.मोदी सरकार ने स्मार्टफोन बनाने वाली चाइनीज कंपनियों ओप्पो, वीवो, शियोमी और जियोनी समेत 21 कंपनियों को नोटिस जारी किया है.सरकार को डर है कि कहीं मोबाइल कंपनियां लोगों का डेटा चुराकर किसी तीसरे देश को न बेच रही हों.सूत्रों का कहना ये है कि भारत इस तरह से चीन पर दबाब बनाने की कोशिश कर रहा है.<>
<>
<>

डेटा सुरक्षा और लीक को लेकर चीन से इलेक्ट्रोनिक्स और आईटी प्रॉड्क्टस के बड़े पैमाने पर होने वाले इंपोर्ट की समीक्षा शुरू कर दी है. सरकार ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब डोकलाम को लेकर भारत और चीन का विवाद चल रहा है.इससे पहले भारत  चीन के 93 उत्पादों पर एंटी डंपिंग शुल्क लागू कर चूका है.भारत के इस कदम से चीन और ज्यादा बौखला चूका है और चीनी मीडिया ने तो इस पर प्रतिक्रिया देते हुए बोल डाला की भारत अब ट्रेड वॉर कर रहा है.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार केंद्र सरकार की जो जांच केन्द्रित है वो चाइना के मोबाइल पर है.इस तरह से मोदी सरकार चीन को कड़ा संदेश देने की कोशिश कर रही है.चीन दुनिया में एक बदनाम कारोबारी के रूप में जाना जाता रहा है नकली पार्ट्स बनाने और बेचने में चीन दुनिया में सबसे आगे है,यही वजह है कुछ दिन पहले ही अमेरिका ने भी चीन के खिलाफ ऐसे कड़े कदम उठाए थे.

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप चीन द्वारा गलत तरीके से किए जाने वाले व्‍यापार की जांच के लिए एक एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर पर साइन किए हैं,इस कदम के बाद चीन पर अमेरिका बैन लगा सकता है.

अभी दूसरी तरफ कल आई IMF की रिपोर्ट ने भी चीन की पोल दुनिया के सामने खोल दी थी.IMF ने साफ़ चेतावनी देते हुए चीन को कहा था अगर चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो कर्ज में डूबे इस चीन की बर्बादी तय है और कोई इसे नहीं रोक पाएगा.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि चीन को लेकर IMF ने ये चेतावनी अभी हाल की अपनी रिपोर्ट में जारी की है,इस रिपोर्ट के आने के बाद से पुरे चीन में हडकंप मचा हुआ है. पिछले साल चीन का कुल कर्ज वहां की जीडीपी का 235 फीसदी था. अगर इसी तरह से कर्ज बढ़ता रहा तो 2022 तक चीन पर कुल कर्ज वहां की जीडीपी का 300 फीसदी तक पहुंच जाएगा !

The post BREAKING NEWS : डोकलाम विवाद के बीच मोदी का चीनी मोबाइल कंपनियों को बड़ा झटका,चीन में हाहाकार ! appeared first on Hindutva.

<>

Loading...