BREAKING NEWS : बांग्लादेश क्रिकेट टीम ने रचा इतिहास,दुनिया भर का क्रिकेट जगत हैरान सचिन-वीरू ने दी बधाई !

सचिन-सहवाग समेत विश्व के दिग्गज क्रिकेटरों ने बांग्लादेश को ऐतिहासिक जीत पर दी बधाई !

टेस्ट रैंकिंग में 9वें स्थान पर काबिज बांग्लादेश ने बुधवार को चौथे स्थान वाली ऑस्ट्रेलिया को पहले टेस्ट में 20 रन से हराकर इतिहास रच दिया.  बांग्लादेश ने ऑस्ट्रेलिया को पहली बार टेस्ट सीरीज में मात दी. बांग्लादेश को साल 2000 में टेस्ट दर्जा मिला था, और 17 साल के बाद उसने ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट में मात देने में सफलता हासिल की.बांग्लादेश ने पहली पारी में तमीम इकबाल के 71 और शाकिब-अल-हसन के 84 रनों की बदौलत 260 रन बनाए थे। अॉस्ट्रेलिया की ओर से पैट कुमिन्स, नथन लॉयन और एश्टन अगर ने 3-3 विकेट झटके। जबकि ग्लेन मैक्सवेल को एक विकेट मिला। अॉस्ट्रेलियाई टीम की शुरुआत खराब रही और डेविड वॉर्नर 8 रन बनाकर आउट हो गए।

बांग्लादेश की जीत के बाद ट्विटर पर बधाइयों का सैलाब आया.दिग्गज क्रिकेटरों समेत बड़ी मात्रा में यूजर्स ने बांग्लादेश के शेरों को जीत की बधाई दी.जो भी हो जो कारनामा इस टीम ने किया है ये इस टीम के लिए एक बहुत शुभ संकेत है.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें की सचिन के साथ-साथ ही सहवाग भी इस टीम को बधाई देने में पीछे नहीं रहे और उन्होंने भी ट्वीट कर डाला.

आज सच में इस टीम ने इतिहास रचा है एकदिवसीय मैच होता तो ये बड़ी जीत नहीं होती क्योंकि उसमें कुछ भी हो जाता है लेकिन पांच दिन के टेस्ट मैच में इस तरह का कारनामा कर दिखाना वो भी ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम के खिलाफ बहुत बड़ी बात है.

दो मैचों की टेस्ट सीरीज में अब बांग्लादेश 1-0 से आगे है. यह अॉस्ट्रेलिया पर बांग्लादेश की पहली और टेस्ट क्रिकेट में चौथी जीत है.इससे पहले बांग्लादेश ने टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ जिंबाब्वे, वेस्टइंडीज और इंग्लैंड को ही शिकस्त दी थी.साल 2000 में टेस्ट दर्जा मिलने के बाद बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया के बीच मौजूदा मैच को छोड़कर 4 मैच हुए थे. इन सभी मैचों में बांग्लादेश को हार का सामना करना पड़ा था.ये जीत बांग्लादेश के लिए इसलिए भी खास है, क्योंकि टेस्ट दर्जा मिलने के 17 साल बाद पहली बार उनको ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच में जीत नसीब हुई है !

The post BREAKING NEWS : बांग्लादेश क्रिकेट टीम ने रचा इतिहास,दुनिया भर का क्रिकेट जगत हैरान सचिन-वीरू ने दी बधाई ! appeared first on Hindutva.

<>

Loading...